मौजूदा समय पे साउथ अफ्रीका का भारत दौरा (IND vs SA) चल रहा है। कटक में खेले गए दूसरे टी-20 में भी भारत को चार विकेट से हार का सामना करना पड़ा और सीरीज में 0-2 से पिछड़ने के बाद अब भारतीय टीम पर सीरीज हार का खतरा मंडरा रहा है।

ind-vs-sa-gautam-gambhir-furious-chahal

अब लगातार दो हार के बाद पूर्व भारतीय क्रिकेटर गौतम गंभीर ने भारतीय लेग स्पिनर युजवेंद्र चहल पर निशाना साधा है। चहल लगातार दूसरे मैच में फ्लॉप रहे और अपने चार ओवरों में 49 रन देकर सबसे महंगा स्पेल फेंका। इस दौरान उन्हें सिर्फ एक विकेट हासिल हुआ। वहीं, उन्होंने पहले मैच में अपने 13 गेंदों में 26 रन दिए थे। ऐसे में साफ है कि गेंदबाज पर सवाल उठेंगे।

गति बदलना है जरूरी

गंभीर का मानना हैं कि चहल ज्‍यादा आक्रामक मानसिकता के साथ जाकर विकेट ले, भले ही वो 50 रन खर्च करें। गंभीर ने स्टार स्पोर्ट्स से बातचीत में कहा,

“अपनी गति को बदलना बहुत महत्वपूर्ण है। अगर चहल सोचते हैं कि ‘मैं टाइट गेंदबाजी करूंगा और विकेट हासिल करूंगा’ तो ऐसा नहीं होगा। वो चार ओवर में 50 रन दे सकते हैं। लेकिन अगर वो तीन विकेट लेता है, तो वो टीम को उस स्थिति में ले जा सकता है जहां से वो मैच जीत सकें। लेकिन अगर वो 40-50 रन देता है और सिर्फ एक विकेट लेता है, तो ये एक समस्या है।”

चहल नही कर पाए चतुर गेंदबाजी

गौतम गंभीर ने आगे बात करते हुए बताया कि चहल लेग स्पिनर होते हुए वह काम नहीं कर सके जिससे बल्लेबाज चकमा खाए। इसलिए साउथ अफ्रीका उनके खिलाफ आसानी से रन बना रहा था। गंभीर ने कहा,

“उसे धीमी गेंदबाजी करनी होगी और बल्लेबाज को लुभाना होगा। अगर वो एक-दो छक्के लगाते हैं तो कोई बात नहीं। दूसरे T20 में, SA के किसी भी बल्लेबाज ने चहल के खिलाफ बाहर निकलने की कोशिश नहीं की। वो लेग स्पिनर को क्रीज से मार रहे थे, जिसका मतलब है कि वो (चहल) तेज गेंदबाजी करने की कोशिश कर रहे थे। हम अक्षर से इस तरह की डिलीवरी की उम्मीद करते हैं, चहल से नहीं।” 

Leave a comment

Your email address will not be published.